जब एक मछली ने पूरे सांप को निगल लिया, फिर जो हुआ उसे देख आप भी हो जाएंगे हैरान (Watch Viral Video) – Socially Keeda

जब एक मछली ने पूरे सांप को निगल लिया, फिर जो हुआ उसे देख आप भी हो जाएंगे हैरान (Watch Viral Video)

मछली ने सांप को निगल लिया (Picture Credit: YouTube)

Viral Video: सांपों (Snakes) के आपने अब तक सोशल मीडिया (Social Media) पर अनगिनत वीडियो देखे होंगे, लेकिन क्या आपने कभी ऐसी मछली (Fish) देखी है जो सांप को निगल गई हो? अब आप सोच रहे होंगे कि एक मछली भला सांप को कैसे निगल सकती है, लेकिन यह सच है. दरअसल, सोशल मीडिया पर एक पुराना वीडियो फिर से वायरल (Previous Video) हो रहा है, जिसमें एक मछली सांप को निगलते हुए नजर आ रही है. इस वीडियो को भारतीय वन सेवा (Indian Forest Service) अधिकारी सुशांत नंदा (Susanta Nanda) ने ट्विटर पर शेयर किया था. इसके साथ उन्होंने कैप्शन लिखा- अगर आपने यह नहीं देखा है. यह वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था और लोग इसे देखकर दंग रह गए थे, लेकिन एक बार फिर यह वीडियो सुर्खियों में आ गया है.

वीडियो में देखा जा सकता है कि किसी झील में एक मछली सांप को अपना शिकार बनाने की कोशिश करती है. हालांकि इस दौरान सांप झाडियों में छुपा हुआ दिखाई दे रहा है, जिसे बाहर निकालने के लिए मछली भी उसके पास पहुंचती है. सांप के पास पहुंचने के बाद मछली अपने मुंह से धुंआ छोड़ने लगती है. इसके बाद जैसे ही सांप बाहर आता है, वो मछली के मुंह में दाखिल होने लगता है. धीरे-धीरे सांप पूरी तरह से मछली के मुंह में समाने लगता है. यह भी पढ़ें: जब एक जिंदा सांप को निगलने लगे खुद नागराज, हैरान करने वाला वीडियो हुआ वायरल (Watch Viral Video)

देखें वीडियो-

देखें वीडियो-

बताया जा रहा है कि वीडियो में जो सांप नजर आ रहा है, वास्तव में वह एक मछली है जिसे सिलेंडर फिश या ईल फिश कहा जाता है. जो मछली सांप की तरह नजर आने वाली इस मछली को निगलने की कोशिश कर रही है वह इससे आकार में काफी बड़ी है. देखते ही देखते ईल फिश बड़ी मछली के भीतर समा जाता है, लेकिन फिर कुछ ही देर बाद मछली को एहसास हो जाता है कि वो ईल फिश को निगल नहीं पाएगी, जिसके बाद वह धीरे-धीरे उस मछली को मुंह से बाहर निकालना शुरु कर देती है.

Join Telegram

See Ananya Pandey Sexy Biography

Watch Movies Online

//vdo
(function(v,d,o,ai){ai=d.createElement(‘script’);ai.defer=true;ai.async=true;ai.src=v.location.protocol+o;d.head.appendChild(ai);})(window, document, ‘//a.vdo.ai/core/latestly/vdo.ai.js’);

//colombai
try{
(function() {
var cads = document.createElement(“script”);
cads.async = true;
cads.type = “text/javascript”;
cads.src = “https://static.clmbtech.com/ase/80185/3040/c1.js”;
var node = document.getElementsByTagName(“script”)[0];
node.parentNode.insertBefore(cads, node);
})();
}catch(e){}

}
});